Sunday, 9 October 2016

… कुछ तो लोग (नहीं) कहेंगे?

न्यूज़ और हेड्लाइंज़ निश्चय ही सुर्ख़ियाँ बनाती हैं। लेकिन ये रोल सिर्फ़ मीडिया तक सीमित नहीं है, ऐसा जान पड़ता है। हमलोग जो न्यूज़ पढ़ते हैं, उस पर बोलते हैं, चाहे टीवी के शोरगुल वाले शोज़ में या महज़ अपने ड्रॉइंग रूम के सोफ़े पर बैठ कर, वो भी न्यूज़ को सुर्खी बनाने में उतना ही अहम भूमिका अदा करते हैं। हाल के दिनों में ये बात आजकल के सबसे ज़्यादा चर्चित न्यूज़ ऐंकर रवीश कुमार ने बेहतरीन ढंग से रक्ख़ा है। उनके समवाद की कुछ बातें आलंकारिक हैं लेकिन बिल्कूल प्रासंगिक। 
इसका हालाँकि एक विपरीत लेकिन पूरक पहलू भी है। और वो है हमारी चुप्पी। किसी समाचार पर हम ज़्यादा बोलते हैं और किसी पर कम। और ये स्वाभाविक भी है और इसके बहोत से कारण हो सकते हैं। किसी विषय पर पकड़ ज़्यादा होती है, किसी में इंट्रेस्ट कम।आख़िर एक संतुलित लेख लिखने या कोई सांगितिक बात कहने के लिए, जो दूसरों को सोचने पर मजबूर करे, ये ज़रूरी है कि सतह से नीचे जाकर स्थिति को समझें। असल में अगर एक ही व्यक्ति सारे विषय पर पारंगत तरीक़े से बोलने लगे या कोशिश करे तब थोड़ी शंका ज़रूर होनी चाहिए। इसलिए ये बात ख़ुद में कोई खंडन या आरोप का विषय नहीं है की फ़लाने ने इस और इस सबजेक्ट पर क्यूँ नहीं बोला। 
जो नैतिक और व्यवाहरिक विवेक हमें बोलने की आज़ादी देता है वही चुप रहने की भी। चुप रहने के भी विभिन्ह अर्थ हैं। इसलिए उसके कारण भी अलग अलग हो सकते हैं। लेकिन क्या हम या हमारे बीच के लोग सिर्फ़ नैतिक विवेक के तहत ही चुप रहते हैं? क्या किसी विषय पर चुप्पी को एक ऐकडेमिक इंट्रेस्ट के हवाले से ही समझा जाना चाहिए? या हमारे ऑडिबल इन्वायरॉन्मेंट में व्यक्तिगत और वैचारिक निकट्टा और दूरी की भी कोई भूमिका होती है? प्रायः हम उस विषय पर बोलते हैं और ज़्यादा बोलते हैं जिसके लिए ज़्यादा प्रतिबद्ध महसूस करते हैं। ग़ौर दें कि अगर ये बात सही है तो मूल बात यहाँ प्रतिबद्धता का है, एक राजनैतिक और सामाजिक चेतना और उससे जुड़े प्रतिबद्धता का।
बोलने और लिखने की प्रक्रिया हमारी प्रतिबद्धता दिखलाती है। दूसरे लफ़्ज़ में कहें तो विषय महत्वपूर्ण होता है। प्रतिबद्धता इशू के प्रति होती है या होनी चाहिए। मगर लाज़िमी है कि हम तब भी बोलते हैं जब दूसरों के विचारों से सहमत नहीं होते हैं। विचार और विषय का रिश्ता क्या सिर्फ़ वैचारिक ताने बाने से ही जुड़ा होता है या कुछ और भी कड़ियाँ साथ में फँसी होती हैं? अहम बात इसलिए बोलने और ना बोलने का नहीं है, बल्कि इसका है कि क्या एक ही तरह के विषय पर हम भेद-भाव करके बोलते हैं? ये ज़रूर सोचना चाहिए कि बोलते वक़्त हम किस तरह से बोलते हैं और अगर चुप रहे तो वो चुप्पी क्या कहती है। 
ये भी सोचना चाहिए कि जब बोलते हैं तो कब बोलते हैं और किस पिच पर। समय और जगह मायने रखती हैं। आख़िरकार जो बोलने कि राजनीति होती है वही चुप रहने की भी हो सकती है।
अगर आज के ऑडिबल इन्वायरॉन्मेंट पर ध्यान डालें तो हर सप्ताह का एक न्यूज़ साइकल होता है। जो होना भी चाहिए अगर बड़ी छोटी ख़बरें देश भर से आती रहती हैं तो। घटनाक्रम दिखलाया जाता है जिसका पहले तथ्य बताया जाता है और फिर विशेलशन दिया जाता है। आज के प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के ऊँचे ऑडिबल स्वरों को पढ़कर, सुनकर और देखकर कभी कभी ये समझना मुश्किल हो जाता है कि तथ्य कहाँ ख़त्म होता है और विश्लेषण शुरू। शायद तथ्य और विश्लेषण में भी वही पेचीदा रिश्ता है जो विषय और विचार के बीच है। इस कड़ी का जो भी नाम हो, वो नहीं पता, लेकिन विगत कुछ दिनों के घटनाक्रम और उसके ऊपर हुवे प्रतिक्रिया को देखकर ऐसा लगता है कि इस कड़ी के एक छोर पर वैचारिक द्दृष्टिकोण होती है और दूसरे पर व्यक्तिगत परस्थितियाँ। ज़रूरी नहीं कि ये दोनों स्वतः या हमेशा (by default) टकराहात की स्तिथि में रहे। ये एक बहुत सिनिकल सोंच होगा। इसीलिए हमारे बोलने और चुप रहने में समय और जगह का महत्त्व होता है। वे दोनों मिलकर संदर्भ निर्धारित करतीं हैं। 
घटनाक्रम और उसके ऊपर तमाम क़िस्म के प्रतिक्रियाओं को प्रचारित और प्रसारित करने में सोशल मीडिया और नए प्रकार के वेब आधारित न्यूज़ साइट्स का योगदान अभूतपूर्व है, ऐसा लगने लगा है। सोफ़े पर आग उगलते या दम तोड़ते डिस्कशन इससे जुदा नहीं हैं। अब सच में मुट्ठी में फ़ोन और टैब्लेट है। इंस्टंट नूडल्स की तरह इंस्टंट प्रतिक्रिया आती है। ख़ास तौर से सोशल मीडिया पर जहाँ विचार और वैचारिक अभिव्यक्ति खुल कर सामने आती है। कुछ ज़्यादा ही खुलकर जिसका परिणाम अक्सरआह उसके विकृत स्वरूप ट्रोलिंग में दिखता है। ट्रोलिंग वैचारिक होने का एक चरम है ना कि उसका खंडन। 
लेकिन ट्रोलिंग तो प्रतिक्रिया के धनुक का सिर्फ़ एक चरम बिंदु है। बाक़ी क्या होता है वहाँ उसपर भी ग़ौर फ़रमाना चाहिए। सोशल मीडिया पर किसी न्यूज़ को शेयर करने के पहले ‘शेम’ लिखना, किसी के पहले ‘ब्रिल्यंट’ का बोर्ड लटका देना - ये मात्र शब्द नहीं हैं बल्कि पढ़ने वालों के लिए एक सूचक या संकेतक भी हैं। अगर अच्छी है तो दूसरे लोग इस शेयर को लाइक करें इसकी भी उम्मीद बनी रहती है। सिर्फ़ लाइक ही नहीं बल्कि दोबारा शेयर करें। कभी कभी लगता है शेयर करना एक वैचारिक फ़र्ज़ है और साथ में दोस्ती निभाने का व्यक्तिगत भी। शेम वाले न्यूज़ को और अधिक लोग शेम लिखकर शेयर करें ये भी अपेक्षा रहती है। यह वैचारिक खुलापन एक दूसरे स्तर पर ये भी दिखलाता है कि कौन ‘अपने’ जैसा सोचता है और कौन नहीं। 
कुछ तो इस स्पेस और माध्यम का अपना स्वभाव, लहजा और मिज़ाज भी है कि अपने और पराए को ढूँढ़ने और चिन्हित करने की होड़ सी मच जाती है। इस खुलेपन में जमकर खेमाबाज़ी होती है। फिर यह सवाल उठाना ना ही असांगितिक होगा ना अतार्किक ही कि क्या हमारे बोलने और लिखने के क्रम को ये खेमेबाज़ी प्रभावित करती है? इससे जुड़ा, क्या जब किसी विषय पर ‘अपने’ जैसे लोग अलग मत रखते हैं तो क्या वे कम ‘अपने’ हो जाते हैं? क्या उनके विचार कम प्रतिबद्ध नज़र आने लगते हैं? 
अपनापन, भाईचारा, बिरादरी - ये सिर्फ़ मानवीय या सामाजिक बंधनों को ही नहीं दिखलाता है बल्कि वैचारिक और राजनैतिक गुट, ग्रुप, और खेमे में भी बसता है। मुमकिन हो कि ये बात जितनी सहजता से कही जा सकती है उतनी सहजता से मानी नहीं। मदर इंडिया में माँ का बेटे को मारना और ज़ंजीर में भाई का भाई पर गोली चलाना ये रील नैतिक आदर्शवादिता क्या रीयल में भी दिखता है? गोली चलाने का मतलब या अभिप्राय लिंचिंग से बिल्कूल भी नहीं है। इसका सहज मतलब निरपेक्षता से है। 
या रील लाइफ़ के विपरीत यथार्थ में हम ‘अपने’ और ‘पराए’ का भेद सहज रूप से स्वीकार कर लेते हैं? यथार्थ का यारी दोस्ती कैसे इस आदर्शवादिता को पूर्ण या खंडित करती है? जब बात बड़े और अहम राजनैतिक और सामाजिक मुद्दों का हो तो ये पूछना और सोचना ज़रूरी है। क्या ‘घर के मुद्दों’ पर एक नज़रिया होता है और वही मुद्दे जब सड़कों, बसों, शहरों, क़स्बों और खलियानों में घटित होते हैं तो हम दूसरा नज़रिया अख़्तियार कर लेते हैं? क्या घर के अंदर ‘मंथन और चिंतन’ होता है और घर के बाहर तोहमत और छींटा कशी? क्या कुछ अत्यंत समवेदनशील मुद्दों पर बोलने का अर्थ ही ये नहीं है कि इस अंदर और बाहर के दूरी और विभाजन पर कठोरता से सवाल उठाना? 
बतौर उधाहरण, रेप और औरतों के सोशण से जुड़े मुद्दे में अक्सर ये देखा गया है कि ‘घर’ और ‘अंदर’ के लोग शामिल होते हैं। इन हालातों में विषय और उससे जुड़े प्रतिबद्धता पर अपेक्षित वैचारिक निष्पक्षता का क्या होता है? क्या उसे थोड़े दिन के लिए निलंबित कर दिया जाता है? क्या उसे बीमार घोषित कर हस्पताल में कुछ दिन के लिए दाख़िल करा दिया जाता है? या फिर विचार और वैचारिकता को ही नया जामा पहनाने की कोशिश किया जाता है? उन बारीकियों को ढूँढा जाता है जो पहले नहीं दिखती थीं या देखने की ज़रूरत नहीं पड़ी थी? बारीकियां ढूँढने को साज़िश नहीं कहेंगे क्यूँकि ये हमारे सोंच में पैनापन लाती हैं लेकिन इसके साथ ही साथ ये ज़रूर पूछना चाहिए कि बारीकियों के तरफ़ बढ़ने का संदर्भ क्या होता है? अगर औरतों के सोशण और हिंदी फिल्म जगत पर एक बार ध्यान फेरें तो ‘दामिनी’ जैसे फिल्म की याद आती है जब लीगल भाषा में बारीकियों को निकाल कर सोशण के मुद्दे को दरकिनार कर दिया जाता है। बोलने की राजनीति होती है, चुप रहने की राजनीति होती है, बारीकियां ढूँढने की भी राजनीति होती है क्या? 
कुछ लोगों को ये सवाल बेबुनियादी लग सकता है। कुछ को रेटॉरिकल। लेकिन कुछ को ये असहज बना सकती हैं। इनको उठाने के पीछे का मक़सद भी यही है कि असहजता को बिना ज़रूरत से ज़्यादा सवारें रक्खा जाए। ये आरोप और प्रत्यारोप के सेंटिमेंट से नहीं लिखा गया है। 
एक पारदर्शी बौधिक माहौल में सवाल उठने चाहिए। पहला सवाल शायद पारदर्शिता के स्वरूप पर ही उठना चाहिए। पीछले कुछ दिनों के घटनाक्रम में बहुत समवेदनशील मुद्दे सामने आए हैं। कुछ लेख भी आएँ हैं जो कारण बने हैं इन सवालों को उठाने के। व्यक्ति या ‘केस’ का नाम लेना ज़रूरी नहीं है। दो कारणों से। पहला, नाज़ुक मुद्दों पर समवेदनशीलता बनी रहनी चाहिए। दूसरा, मक़सद मतभेद के तर्ज़ पर तूतू-मैंमैं करने का नहीं है। 

नोट: इस लेख को लिखने में शुक्रगुज़ार हूँ नितिन वर्मा का जिसके साथ तमाम मसलों पर लिखने दौरान लंबी बातचीत होती रही। पंकज कुमार झा ने इस लेख का पहला मसौदा पढ़ कर अपने मददगार विचार दिए थे।

No comments: