Saturday, 14 January 2017

तुम और मैं

तुम और मैं

दिखने लगे हो जब से तुम ही हर सूँ
गोया ख़ुद को भूलने सा लगा हूँ ।

कभी कटार और कभी कतार से गुज़र कर
हर अक़्स में तेरा ही रुख़ पाने लगा हूँ ।

लफ़्ज़ों के जादुई गिरह खोलते हो ऐसे,
सन्नाटे में अपनी चीख़ दोहराने लगा हूँ ।

वक़्त का आग़ाज़ है ये, तो फिर यही सही
अपने ‘मन की बात’ को ताह देने लगा हूँ ।

तेरा तिलमिलाना, और यूँ व्यंग्य से मुस्कुराना
ख़ुद के होने पर कुछ इतराने लगा हूँ ।

कभी झाड़ू, कभी चरख़ा, और कभी सेल्फ़ी
तेरी सियासत का जनाज़ा उठाने लगा हूँ ।

Saturday, 7 January 2017

दास्ताँ


दास्ताँ
दर्द की ये दास्ताँ, कह गयी कुछ तो मगर
रह गयी कुछ अनकही
देर तक बैठी रही, सुन रही ख़ामोशियाँ
रात यूँ जाती रही

लफ़्ज़ों के टुकड़ों के गुच्छे की थैली में
रक्खी थी तुमने कहीं
संग-ए-सितम की अपनी कहानी, और एक फ़साना वहीं
लफ़्ज़ों के टुकड़ें बिख़रे ज़मीं पर
सुनाए सितम की कहानी नयी

खोए, खोए निशाँ हैं तुम्हारे,
सूखी, सूखी पड़ी तेरी यादें
भूला, भूला है तुमको ज़माना,
फिर भी मिट ना सका ये एक फ़साना
सुनाए जो ग़म की तेरी कहानी
दोहरे ज़माने की दोहरी जुबानी